2.0-Movie-review_960x540

निर्देशक शंकर ने फिल्म की पहली फ्रेम से ही यह जाहिर कर दिया था कि अक्षय कुमार और रजनीकांत अभिनीत ये फिल्म वीएफएक्स और 3डी इफैक्ट्स के मामले में जबरदस्त होने वाली है।
फिल्म की शुरुआत एक बूढ़े व्यक्ति के साथ होती है कि जो मोबाइल टॉवर से कूदकर आत्महत्या कर लेता है। अगले ही सीन में एंट्री होती है डॉक्टर वसीगरण (रजनीकांत) और उनकी नई मानव मशीन नीला से (एमी जैक्सन) की। डॉक्टर वसीकरण से मिलने कुछ छात्र आए होते हैं जब अचानक उनके हाथों में मोबाइल फोन छीन जाता है। जल्द ही पूरे शहर के लोगों के हाथ से मोबाइल फोन्स गायब होने लगते हैं और सभी हवा में उड़ने लगते हैं। फिर मोबाइल टॉवर्स पर भी अचानक से कांपने लगते हैं।

ससे पहले कि लोग कुछ समझ पाएं.. एक विशाल पक्षी का तांडव पूरे शहर में शुरु हो जाता है। इस पक्षी के पंख मोबाइल फोन्स से बने होते हैं, जिससे वह सबकुछ तहस नहस करता जाता है। यह सब देखकर डॉक्टर वसीगरण चिट्टी (रजनीकांत) को वापस लाते हैं, जो पक्षीराज (अक्षय कुमार) जैसी शक्ति से निपट सके। इसके बाद शुरू होती है लड़ाई और इस लड़ाई में आगे क्या होता है इसके लिए आपको फिल्म देखनी होगी।

फिल्म के वीएफएक्स के लिए एक बार तो 2.0 देखना जरूर बनता है। अभिनय की बात करें तो रजनीकांत फिल्म की जान हैं। वह लगभग हर फ्रेम हैं और फिल्म की गति को पकड़ कर रखते हैं। वहीं, अक्षय कुमार को भले ही रजनीकांत से कम स्क्रीन टाइम दिया गया है, लेकिन वह दमदार लगे हैं। विलेन के रूप में अक्षय कुमार प्रभावित करते हैं। एमी जैक्सन के पास काफी कम डॉयलोग्स हैं, लेकिन वह खूबसूरत दिखी हैं।

http://advisewala.online/wp-content/uploads/2018/12/2.0-Movie-review_960x540.jpghttp://advisewala.online/wp-content/uploads/2018/12/2.0-Movie-review_960x540-150x150.jpgADMINspecialनिर्देशक शंकर ने फिल्म की पहली फ्रेम से ही यह जाहिर कर दिया था कि अक्षय कुमार और रजनीकांत अभिनीत ये फिल्म वीएफएक्स और 3डी इफैक्ट्स के मामले में जबरदस्त होने वाली है। फिल्म की शुरुआत एक बूढ़े व्यक्ति के साथ होती है कि जो मोबाइल टॉवर से कूदकर आत्महत्या...HIDDEN
loading...